Report Times
latestOtherकरियरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशराजनीतिस्पेशल

हिंदुत्व बनाम जातिवाद की लड़ाई से मोदी का काउंटर करने की विपक्षी कोशिश

REPORT TIMES 

Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024 की सियासी पटकथा लिखी जा रही है. रामचरितमानस को लेकर बिहार से शुरू हुई सियासत उत्तर प्रदेश से होते हुए अब उससे आगे बढ़ गई है. तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के बेटे व राज्य सरकार में मंत्री उदयनिधि स्टालिन ने तो सनातन धर्म पर ही हमला बोल दिया. सनातन धर्म की तुलना कोरोना, मलेरिया और डेंगू वायरस और मच्छरों से करते हुए उदयनिधि ने कहा कि ऐसी चीजों का विरोध ही नहीं बल्कि खत्म कर देना चाहिए. उदयनिधि के बयान पर सियासत गरमा गई है. इसी तरह रामचरितमानस की कुछ चौपाइयों को महिला और दलित विरोधी बताते हुए उन्हें हटाने की मांग की गई थी.भारतीय राजनीति इन दिनों दो ध्रुवों में बंटी हुई नजर आ रही है. बीजेपी हिंदुत्व की राजनीति का तानाबाना बुन रही है. बीजेपी और आरएसएस लंबे समय से अलग-अलग जातियों में बिखरे हुए हिंदुओं को हिंदुत्व के छतरी के नीचे एक साथ लाने की कोशिशों में जुटी हुई है. बीजेपी को इस दिशा में काफी हद तक सफलता भी हाथ लग चुकी है. वहीं, मंडल पॉलिटिक्स से निकले क्षत्रप सामाजिक न्याय के सहारे जातीय सियासत को धार दे रहे हैं, जिसके लिए वो रामचरितमानस से लेकर सनातन धर्म तक पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं. ये सारी कवायद यूं ही नहीं हो रही है बल्कि उसके पीछे राजनीतिक दलों के सियासी निहितार्थ भी हैं.

Advertisement

Advertisement

अभी क्यों उठा सनातन धर्म का मुद्दा ?

Advertisement

दरअसल, सवाल यह है कि सनातन धर्म का मुद्दा अभी क्यों उठा? इस देश की कुल आबादी में हिंदुओं की संख्या करीब 110 करोड़ है और इनमें भी 80 फीसदी से ज्यादा लोग सनातन धर्म के मानने वाले हैं. हिंदुत्व की पॉलिटिक्स की बात करें तो उत्तर भारत के राज्यों में खूब फली-फूली है जबकि दक्षिण के राज्यों में सामाजिक न्याय की सियासत हावी रही है. हालांकि, 90 के दशक में हिंदी बेल्ट वाले राज्यों में दलित और ओबीसी की राजनीति का उभार हुआ, लेकिन नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से धीरे-धीरे हाशिए पर पहुंच गई है. उत्तर भारत में दलित समुदाय के बीच राजनैतिक चेतना जगाने वाले कांशीराम के निधन के बाद मायावती उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनीं, लेकिन बसपा की सियासत को सहेजकर नहीं रख सकीं. इसी तरह महाराष्ट्र से लेकर बिहार तक दलित सियासत खत्म होती नजर आ रही है. मुलायम सिंह यादव ने यूपी में ओबीसी की राजनीति को खड़ा किया, लेकिन उनके बेटे अखिलेश यादव संभालकर नहीं रख सके. बिहार में कास्ट पॉलिटिक्स का दबदबा अभी भी बना हुआ है, जिसे बीजेपी यूपी के तर्ज पर तोड़कर हिंदुत्व की राजनीतिक को स्थापित करने की कोशिशों में जुटी है.

Advertisement

हिंदुत्व के इर्द-गिर्द सिमटी है देश की सियासत

Advertisement

वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी कहते हैं कि देश की सियासत पूरी तरह से हिंदुत्व के इर्द-गिर्द सिमटी हुई है. 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद से देश का राजनीतिक पैटर्न पूरी तरह से बदल गया है. देश में अब बहुसंख्यक (हिंदू) समाज केंद्रित राजनीति हो गई है और बीजेपी इस फॉर्मूले के जरिए लगातार चुनावी जीत भी मिल रही है. आरएसएस और बीजेपी को जातियों में बिखरे हुए हिंदुओं को एकजुट करने में बड़ी मशक्कत करनी पड़ी है तब कहीं जाकर उसे इस दिशा में सफलता मिली है. संघ और बीजेपी की यही कोशिश है कि अलग-अलग जातियों में बिखरे हुए लोगों को हिंदुत्व के नाम पर एकजुट रखा जाए, जिसके लिए उन्हें यह लगातार यह बताया जा रहा है कि पहले हिंदू हो उसके बाद दलित-ओबीसी-सवर्ण हो.

Advertisement

कास्ट पॉलिटिक्स पर गहरा गया संकट

Advertisement

विजय त्रिवेदी बताते हैं कि कैसे तमाम हिंदुओं को एक प्लेटफार्म पर लाया जा सके. इसके लिए संघ शुरू से ही काम कर रहा है. संघ यह मानता रहा है कि भारत में रहने वालों की अपनी-अपनी परंपराएं और रिवाज अलग-अलग हैं, लेकिन वो सभी सनातनी हैं. यहां मूर्तिपूजक भी हिंदू है और निराकारपंथी भी हिंदू हैं. आस्तिक भी हिंदू है और नास्तिक भी हिंदू है. संघ प्रमुख तो मुसलमानों को भी हिंदू बताते हुए कहते रहे हैं कि उनके पूर्वज हिंदू ही रहे हैं. इस तरह सभी हिंदू हैं और हिंदू धर्म की मुख्य धारा सनातनपंथी ही. इस तरह संघ लार्जर प्लान पर काम कर रहा है और अब इस दिशा में कहीं जाकर उसे सफलता मिली है तो राजनीति में उसी का लाभ बीजेपी को मिल रहा है. भाजपा और संघ ने हिंदुओं की तमाम जातियों को एक करने का काफी हद तक सफल रही है, जिससे कास्ट पॉलिटिक्स पर संकट गहरा गया है.

Advertisement

सनातन धर्म को खत्म कर देना चाहिए

Advertisement

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के पुत्र व खेल विकास मंत्री उदयनिधि स्टालिन ने ‘सनातन उन्मूलन परिसंवाद’ विषय पर आयोजित कार्यक्रम में कहा कि सनातन धर्म सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है. कुछ चीजों का विरोध तो नहीं किया जा सकता, उन्हें ही पूरी तरह खत्म किया जाना चाहिए. हम डेंगू, मच्छर, मलेरिया या कोरोना का विरोध नहीं कर सकते. इसी तरह हमें सनातन को खत्म करना है. उदयनिधि ने कहा कि सनातन नाम संस्कृत का है. यह सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है, इसमें किसी तरह से सुधार की गुंजाइश नहीं है. उदयनिधि अपने इस बयान पर पूरी तरह से कायम है.

Advertisement

उत्तर भारत की राजनीति से अलग तमिलनाडु की सियासत

Advertisement

उदयनिधि के बयान को राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि तमिलनाडु की सियासत हमेशा से उत्तर भारत की राजनीति से अलग रही है. करुणानिधि ने अपनी पार्टी की हिंदू हिंदी संस्कृत और देवी देवताओं को न मानने वाली सियासी विचारधारा को इतना मजबूती के साथ आगे बढ़ा रहे थे कि उनको इसमें हमेशा सियासी फायदा ही नजर आया है. विजय त्रिवेदी कहते हैं कि तमिलनाडु की राजनीति हमेशा से उत्तर भारत की विरोधी रही है. यहां हमेशा हिंदी, हिंदू, संस्कृत और देवी देवताओं के अस्तित्व पर सवाल उठाए जाते रहे हैं. करुणानिधि ने भगवान राम पर ही सवाल उठाते हुए एक जनसभा में पूछ लिया था कि रामसेतु का निर्माण आखिर राम कैसे कर सकते थे.

Advertisement

उदयनिधि ने INDIA को मुसीबत में डाला

Advertisement

स्टालिन की पार्टी डीएमके विपक्षी गठबंधन INDIA का हिस्सा है, जिसमें कांग्रेस सहित उत्तर भारत की तमाम राजनीतिक पार्टियां शामिल हैं. डीएमके सनातन धर्म पर सवाल खड़े करके तमिल के लोगों को सियासी संदेश देना चाहती है. सनातन धर्म पर विवादित बयान देकर उदयनिधि ने भले ही विपक्षी दलों के गठबंधन INDIA को मुसीबत में डाल दिया हो, लेकिन तमिलनाडु में पार्टी के विस्तार और जनाधार को बहुत मजबूत करने का बड़ा सियासी दांव चल दिया है. उत्तर से लेकर दक्षिण तक इन दिनों जिस तरह से सामाजिक न्याय की राजनीति को धार दी जा रही है, उसके पीछे उनका राजनीतिक मकसद जगजाहिर है.

Advertisement

भाजपा से बिदक सकती हैं OBC-दलित जातियां

Advertisement

वरिष्ठ पत्रकार संजीव चंदन कहते हैं कि सनातन के नाम पर हिन्दू धर्म या समाज में थोड़े से भी सुधार का विरोध होता रहा है. वैदिक दायरे में भी सुधार करने वाले आर्य समाज का विरोध इसी ‘सनातन’ विचार के जरिए हुआ. उदयनिधि स्टालिन ने सनातन खात्मे की बात करते हुए एक बहस को जन्म दे दिया है. इस बहस को बीजेपी जितना हवा देगी उसे उतना ही नुकसान होगा. सामाजिक न्याय के धड़े से हिंदुत्व और सनातन के नाम पर वर्ण वर्चस्व की कोशिश, ब्राह्मणवाद को पोषित करने की कोशिश की जाएगी. इससे भाजपा के समर्थन में आने वाली ओबीसी-दलित जातियां भाजपा से बिदक सकती हैं.

Advertisement

रामचरितमानस पर हो चुका है बवाल

Advertisement

वह कहते हैं कि बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर और यूपी में सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य का रामचरितमानस पर दिया गया बयान बीजेपी-संघ की हिंदुत्व पॉलिटिक्स के समानांतर सामाजिक न्याय की राजनीति को खड़े करने की रणनीति थी. स्वामी प्रसाद से लेकर उदयनिधि स्टालिन अपने बयान पर टिके हैं, ये उनकी वैचारिक दृढ़ता को भी स्प्ष्ट करता है और उन्हें उनकी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का भी साथ मिला है. देश में जाति व्यवस्था खत्म हो, एक ही धर्म के अनुयायियों में जन्मगत आधार किसी तरह का भेद न हो, इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता. सामाजिक न्याय के नाम पर दलित-पिछड़े वर्ग का उत्थान कम और राजनीतिक ज्यादा है.

Advertisement

हिंदुत्व की सियासत को BJP ने दिया नया मुकाम

Advertisement

वरिष्ठ पत्रकार हेमंत तिवारी कहते हैं कि बीजेपी ने हिंदुत्व की सियासत को एक नया मुकाम दे दिया है. पहले राम मंदिर और अब काशी-मथुरा और भी कई ऐसे तीर अभी उसके तरकस में हैं, जिनकी चकाचौंध में आम हिंदू अपने ही धर्म के अंतर्विरोधों और जातीय यातनाओं को भुलाए बैठा है. ऐसे में गैर बीजेपी दलों खासकर मंडल पॉलिटिक्स से निकले नेताओं को अपना सियासी भविष्य खतरे में दिख रहा है. बीजेपी के हिंदुवादी राजनीति के सामने एक राजनीति करनी की है, जिसमें धर्म से पहले जाति को अहमियत देने की है. उत्तर भारत में बीजेपी के वोटबैंक बन चुके ओबीसी और दलितों को क्षेत्रीय दल अपने खेमे में वापस लाने की कोशिश कर रही है. इसीलिए विपक्षी गठबंधन INDIA जातिगत जनगणना के मुद्दे पर मांग उठा रहे हैं ताकि दलित और ओबीसी को अपने पक्ष में एकजुट कर बीजेपी से मुकाबला करना चाहते हैं.

Advertisement

चंद्रशेखर-स्वामी मौर्य की भी जुबान फिसली

Advertisement

उदयनिधि से लेकर बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर और सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य तक की जुबान फिसली नहीं है बल्कि सोची-समझी रणनीति के तहत दिया गया बयान है. तीनों ही नेता भले ही अलग-अलग राजनीतिक पार्टियों में हो, लेकिन विचारधारा एक ही है. तीनों ही नेता ओबीसी समुदाय से आते और सामाजिक न्याय और अंबेडरवादी हैं. इसके चलते ये ब्राह्मणवाद से लेकर सनातन तक अपने निशाने पर ले रहे हैं और अपने स्टैंड पर पूरी तरह से कायम भी है. सामाजिक न्याय के नाम पर जातिवाद को खत्म करने की पैरवी की जाती है तो सनातन धर्म के सहारे जाति व्यवस्था को खत्म कर हिंदुत्व के पहचान की पैरवी की जाती है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

मध्यप्रदेश सरकार का बड़ा फैसला : प्रदेश के किसी भी जवान के शहीद होने पर दी जाने वाली राशि में 50 प्रतिशत पत्नी को और 50 प्रतिशत माता-पिता को दी जाएगी

Report Times

हज कमेटी के चेयरमैन अमीन कागजी पहुंचे नरहड़ दरगाह

Report Times

रिश्वत मामले में दोषी सैमसंग के अरबपति वाइस चेयरमैन को राष्ट्रपति से मिली माफी

Report Times

Leave a Comment