Report Times
latestOtherकोटाटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशलहादसा

सांड ने पटक-पटककर बुजुर्ग को मार डाला, चेहरे के आर-पार हो गया सींग

REPORT TIMES

Advertisement

राजस्थान के कोटा शहर के पुरानी साबरमती कॉलोनी में एक दिल दहलाने देने वाली घटना सामने आई है. कॉलोनी में मॉर्निंग वॉक पर निकले एक बुजुर्ग पर सांड ने जानलेवा हमला कर दिया जिसमें बुजुर्ग की मौत हो गई. सांड ने बुजुर्ग को देखकर उसे पहले सींगों में उठाकर फेंका और बुजुर्ग के नीचे गिरने के बाद भी वह लगातार हमला करता रहा. वहीं आसपास मौजूद लोगों ने सांड को पत्थर से मार कर भगाया और बुजुर्ग को इलाज के लिए एक निजी हॉस्पिटल लेकर पहुंचे. जानकारी मिली है कि अत्यधिक खून बहने से बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया. घटना 18 दिसंबर सुबह 6 बजे की बताई जा रही है जहां दिल दहलाने देने वाली यह घटना गली में लगे एक सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई.

Advertisement

घटना के बाद मृतक के बेटे रघुवीर ने जानकारी दी कि उसके पिता महेश चंद्र (62) सरकारी स्कूल में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के पद से रिटायर हुए थे और वह हप दिन मॉर्निंग वॉक पर जाते थे. बीते 18 दिसंबर को जब वह घूमने निकले तो घर से 10-15 कदम की दूरी पर एक सांड ने उन पर हमला कर दिया जिसमें उनकी मौत हो गई.

Advertisement

Advertisement

चेहरे के आर-पार हो गया सांड का सींग

Advertisement

वहीं सांड ने सींगों से बुजुर्ग पर हमला बोला जिसके बाद वहां से गुजर रहे कुछ लोगों ने पत्थर फेंककर सांड को भगाया और घर आकर सूचना दी. बुजुर्ग को इसी दौरान घायल हालात में निजी हॉस्पिटल ले कर जाया गया जहां खून ज्यादा बहने से उनकी मौत हो गई. रघुवीर ने बताया कि उनके नीचे गिरने के बाद पिता ने सांड से बचने की कोशिश भी की थी और सांड के दोनों सींग पकड़ लिए.

Advertisement

इसके बाद सांड ने उन्हें उठाकर थोड़ी दूर फेंक दिया और सांड का सींग उनके चेहरे के आर-पार हो गया और बायीं आंख तक बाहर आ गई. बताया जा रहा है कि मृतक के परिजनों को नियमानुसार राज्य सरकार की मदद से आर्थिक सहायता दिलवाने के लिए कलेक्टर को एक पत्र लिखा गया है.

Advertisement

कैसे होगा कोटा कैटल फ्री!

Advertisement

गौरतलब है कि प्रदेश की पहली पशुपालक आवास योजना 19 जून को शुरू हुई थी जिस पर 300 करोड रुपए खर्च किए गए लेकिन इसके बावजूद 5 महीने बाद भी शहर की सड़कों पर पशुओं का जमावड़ा लगा हुआ रहता है. इस घटना के बाद कोटा दक्षिण नगर निगम के महापौर राजीव अग्रवाल का कहना है कि मुख्य सड़क पर इस तरह के एक्सीडेंट का ज्यादा खतरा रहता है, हालांकि निगम की टीम हर दिन मेन सड़क से 25 से 30 आवारा पशु पकड़ रही है. वहीं अब हादसे के बाद कॉलोनी से आवारा पशुओं को पकड़ने के निर्देश दिए गए हैं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

‘मैं बार-बार कहता हूं इसके मायने होते हैं’, आखिर क्या है CM गहलोत के इस बयान के पीछे की कहानी

Report Times

ED, CBI के अधिकारियों के खिलाफ शुरू करूंगी जांच: ममता बनर्जी ने केंद्र को दी धमकी

Report Times

अजय देवगन के लिए आखिर किस एक्ट्रेस ने लिखा था सुसाइड नोट

Report Times

Leave a Comment