Report Times
latestOtherकरियरकृषिझुंझुनूंटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

रिटायरमेंट के बाद खेती को बनाया जॉब, जैतून उपजाकर अब हो रहा मालामाल

REPORT TIMES

Advertisement

जैतून की खेती किसानों की किस्मत बदल रही है. राजस्थान के झुंझुनूं में इन दिनों इसका नजीर देखा जा रहा है. किसान जैतून की खेती से मालामाल हो रहे हैं. झुंझुनूं के कई गांवों में आज इजराइल वाले जैतून की फसलें लहलहा रही हैं. जिले में धीरे-धीरे इसका रकबा भी बढ़ता जा रहा है. उदाहरण के लिए झुंझुनूं से 40 किलोमीटर दूर झरेली गांव के मुकेश मांझु के खेतों को देखा जा सकता है. वैसे तो मुकेश ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से एमए और बीएडी की पढ़ाई की है और एनएसजी से रिटायर्ड हैं. लेकिन आज खेती में पूरा समय लगा रहे हैं. वो कहते हैं उनका परिवार शुरुआत से ही खेती से जुड़ा हुआ था.उनके खेतों में 450 से ज्यादा जैतून के पेड़ लहलहा रहे हैं. किसान मुकेश इस खेती से लाखों कमा रहे हैं.

Advertisement

Advertisement

2014 से शुरू की थी जैतून की खेती

Advertisement

मुकेश ने जैतून की खेती की शुरुआत अगस्त 2014 में की थी. शुरुआत में कुछ ही पौधे लगाए. इसके बाद धीरे.धीरे पौधों की संख्या बढ़ती चली गई. आज की तारीख में पौधों की संख्या करीब 500 तक पहुंच गई. मुकेश का कहना है कि जैतून की खेती करने में सरकार के कृषि और उद्यान विभाग के अधिकारियों का भी खूब सहयोग रहा.

Advertisement

पिता के सुझाव पर की जैतून की खेती

Advertisement

मुकेश कहते हैं जब वो सर्विस से रिटायर्ड हो गए तो उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करें. ऐसे में उनके पिताजी ने सुझाव दिया कि जैतून की खेती की जा सकती है. इसके बाद उन्होंने बीकानेर जाकर जैतून का पौधा खरीदा. फिर खेतों में उसे रोपना शुरू किया. मुकेश के मुताबिक महज चार साल के बाद ही वे पौधे पेड़ बन गए और आय भी शुरू हो गई. पहली बार 60 हजार रुपए कमाए. उसके बाद धीरे-धीरे आय बढ़ी.आज की तारीख मे डेढ़ लाख रुपए सालान कमाई हो रही है.

Advertisement

पीढ़ी दर पीढ़ी कमाई का जरिया

Advertisement

मुकेश का कहना है कि दो साल बाद जैतून के पौधे बढ़ने से इसकी पत्तियों को काटकर बेचा जा सकता है. इसकी पत्तियां भी 50 से 60 रुपए प्रति किलो बिक रही है. उगाने के 4 या 5 साल के बाद इसमें फल लगने शुरू हो जाते हैं, इसे भी कई कंपनियां खरीद लेती हैं. कहते हैं इस पेड़ की उम्र एक हजार साल तक की होती है. ऐसे में सोचा जा सकता है. इसकी खेती पीढ़ी दर पीढ़ी कितनी लाभदायक है.

Advertisement

बड़े काम का है जैतून का तेल

Advertisement

उद्यान विभाग के सहायक निदेशक शीशराम जाखड़ का कहना है इस पौधे में माइनस डिग्री से लेकर 48 डिग्री तक तापमान सहने की क्षमता होती है. इसके पौधे इज़राइल, अमरीका, चीन, न्यूजीलैंड सहित अनेक देशों में बड़ी संख्या में उगाए जा रहे हैं. इसे अंग्रेजी में ओलिव भी बोलते हैं. जैतून का तेल (ओलिव ऑइल) खाना पकाने, सौंदर्य प्रसाधन, दवा, साबुन बनाने और पारम्परिक दीप प्रज्जवल में भी काम आते हैं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

‘दिल्ली पुलिस में 350 करोड़ का घोटाला’, प्रधानमंत्री जी क्या इसकी जांच होगी? केजरीवाल का PM मोदी पर निशाना

Report Times

चीन-पाकिस्तान की खैर नहीं… ISRO अगले 5 साल में लॉन्च करेगा 50 जासूसी सैटेलाइट

Report Times

चिड़ावा : यहां शिवलिंग के समीप विराजे हैं हनुमान

Report Times

Leave a Comment